26 January Shayari (2022-23) NEW

26 January Shayari	 26 January Shayari
26 January Shayari

चलो फिर से खुद को जागते है
अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है
सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहिदो के लहू से
ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है ||
आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

Chalo Phir Se Khud Ko Jaagate Hai
Anusaasan Ka Danda Phir Ghumaate Hai
Sunahara Rang Hai Ganatantr Ka Sahido Ke Lahoo Se
Aise Sahido Ko Ham Sab Sar Jhukaate Hai ||
Aapako Ganatantr Divas Kee Haardik Shubhakaamanaayen.

देश भक्तो की बलिदान से
स्वतन्त्र हुए है हम
कोई पूछे कोन हो
तो गर्व से कहेंगे.
भारतीय है हम
Happy Gantantra Diwas

Desh Bhakto Kee Balidaan Se
Svatantr Hue Hai Ham
Koee Poochhe Kon Ho
To Garv Se Kahenge.
Bhaarateey Hai Ham
Happy Gantantr Diwas

जमाने भर में मिलते है आशिक कई
जमाने भर में मिलते है आशिक कई
मगर वतन से खुबसूरत कोई सनम नही होता ||

Jamaane Bhar Mein Milate Hai Aashik Kaee
Jamaane Bhar Mein Milate Hai Aashik Kaee
Magar Vatan Se Khubasoorat Koee Sanam Nahee Hota

भारत के गणतंत्र का सारे जग में मान
दशकों से खिल रही उसकी अद्भुत शान
सब धर्मो को देकर मान रचा गया इतिहास का
इसलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास ||

Bhaarat Ke Ganatantr Ka Saare Jag Mein Maan
Dashakon Se Khil Rahee Usakee Adbhut Shaan
Sab Dharmo Ko Dekar Maan Racha Gaya Itihaas Ka
Isalie Har Deshavaasee Ko Isamen Hai Vishvaas