Allama Iqbal Shayari (2022-23) NEW

Allama Iqbal Shayari	 Allama Iqbal Shayari
Allama Iqbal Shayari

ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले
ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

Khudee Ko Kar Buland Itana Ki Har Taqadeer Se Pahale
Khuda Bande Se Khud Poochhe Bata Teree Raza Kya Hai

माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं
तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतज़ार देख

Maana Ki Teree Deed Ke Qaabil Nahin Hoon Main
Too Mera Shauq Dekh Mira Intazaar Dekh

Teachers Day Shayari
Teachers Day Shayari

सत्य की राह पर चलना सिखाते है
जीवन के संघर्षों से लड़ना सिखाते है
कोटि-कोटि नमन है उन सभी शिक्षकों को
जो हमें ईमानदारी से जीना सिखाते हैं

Saty Kee Raah Par Chalana Sikhaate Hai
Jeevan Ke Sangharshon Se Ladana Sikhaate Hai
Koti-Koti Naman Hai Un Sabhee Shikshakon Ko
Jo Hamen Eemaanadaaree Se Jeena Sikhaate Hain

सही क्या और गलत क्या है ये सबक पढ़ाते हैं आप
सच क्या और झूठ क्या है ये सब समझाते हैं आप
जब सूझता नहीं कोई रास्ता मंजिल तक जाने का
तो सही राह दिखा मंजिल तक पहुंचते हैं आप

Sahee Kya Aur Galat Kya Hai Ye Sabak Padhaate Hain Aap
Sach Kya Aur Jhooth Kya Hai Ye Sab Samajhaate Hain Aap
Jab Soojhata Nahin Koee Raasta Manjil Tak Jaane Ka
To Sahee Raah Dikha Manjil Tak Pahunchate Hain Aap

जीवन पथ जहाँ से शुरू होता है
वो रहा दिखाने वाला गुरू होता है

Jeevan Path Jahaan Se Shuroo Hota Hai
Vo Raha Dikhaane Vaala Guroo Hota Hai