Army Shayari (2022-23) NEW

Army Shayari	 Army Shayari
Army Shayari

जिगर में आग है अब हम आंच से नहीं डरते
बांध लिए कफ़न अब हम काल से नहीं डरते
ऐ बुजदिल ए नमकहराम तू ध्यान से सुन ले की
हम एक हिन्दुस्तानी है जो किसी का उधार नहीं रखते

Jigar Mein Aag Hai Ab Ham Aanch Se Nahin Darate
Baandh Lie Kafan Ab Ham Kaal Se Nahin Darate
Ai Bujadil E Namakaharaam Too Dhyaan Se Sun Le Kee
Ham Ek Hindustaanee Hai Jo Kisee Ka Udhaar Nahin Rakhate

कल रात बड़ी शिद्धत से दुश्मनों की तबाही मांगी थी
मगर बाद में पता चला वो तारा एयर फ़ोर्स के लड़ाकू विमान की लाइट थी

Kal Raat Badee Shiddhat Se Dushmanon Kee Tabaahee Maangee Thee
Magar Baad Mein Pata Chala Vo Taara Eyar Fors Ke Ladaakoo Vimaan Kee Lait Thee

जमीन पर हमें कोई युद्ध नहीं कर सकता
पानी में हमारा कोई दुश्मन तैर नहीं सकता
गगन शक्ति इस काबिल है हमारी
हिंदुस्तान के आसमान की ओर से कोई भी उठा नहीं सकता

Jameen Par Hamen Koee Yuddh Nahin Kar Sakata
Paanee Mein Hamaara Koee Dushman Tair Nahin Sakata
Gagan Shakti Is Kaabil Hai Hamaaree
Hindustaan Ke Aasamaan Kee Or Se Koee Bhee Utha Nahin Sakata