Chai Shayari (2022-23) NEW

Chai ShayariChai Shayari
Chai Shayari

उदासी में कुछ पल जन्नत में जियोगे क्या
चाय बना रही हूँ अदरक वाली पियोगे क्या

Udaasee Mein Kuchh Pal Jannat Mein Jiyoge Kya
Chaay Bana Rahee Hoon Adarak Vaalee Piyoge Kya

तेरे लबों पर लगी चाय पीना चाहता हूँ
दो पल की जिंदगी तेरे साथ जीना चाहा हूँ.

Tere Labon Par Lagee Chaay Peena Chaahata Hoon
Do Pal Kee Jindagee Tere Saath Jeena Chaaha Hoon.

इस भागते हुए वक़्त पर कैसे लगाम लगाई जाएँ
ऐ वक़्त आ बैठ तुझे एक कप चाय पिलाई जाएँ.

Is Bhaagate Hue Vaqt Par Kaise Lagaam Lagaee Jaen
Ai Vaqt Aa Baith Tujhe Ek Kap Chaay Pilaee Jaen.

शोहरत न तालियों का मुझे शोर चाहिए
नुक्कड़ पे चाय मिल गयी क्या और चाहिए

Shoharat Na Taaliyon Ka Mujhe Shor Chaahie
Nukkad Pe Chaay Mil Gayee Kya Aur Chaahie