Desh Bhakti Shayari (2022-23) NEW

Desh Bhakti ShayariDesh Bhakti Shayari
Desh Bhakti Shayari

सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा हम बुलबुले हैं उसकी यह गुलसिता हमारा
परबत वो सबसे ऊंचा हमसाया आसमां का वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा

Saare Jahaan Se Achchha Hindustaan Hamaara Ham Bulabule Hain Usakee Yah Gulasita Hamaara
Parabat Vo Sabase Ooncha Hamasaaya Aasamaan Ka Vo Santaree Hamaara Vo Paasabaan Hamaara

कुछ नशा तिरंगे की आन का हैं कुछ नशा मातृभूमि की शान का हैं
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा नशा ये हिन्दुस्तान की शान का हैं

Kuchh Nasha Tirange Kee Aan Ka Hain Kuchh Nasha Maatrbhoomi Kee Shaan Ka Hain
Ham Laharaayenge Har Jagah Ye Tiranga Nasha Ye Hindustaan Kee Shaan Ka Hain

बर्फ के पहाड़ों पर आग सा जलता है रेत के रेगिस्तान में वो हिम सा ठहरता है
एक फौजी ही तो है जनाब जो देश पे मर कर भी जिंदगी जी जाता हैं

Barph Ke Pahaadon Par Aag Sa Jalata Hai Ret Ke Registaan Mein Vo Him Sa Thaharata Hai
Ek Phaujee Hee To Hai Janaab Jo Desh Pe Mar Kar Bhee Jindagee Jee Jaata Hain