Dhoka Shayari (2022-23) NEW

Dhoka ShayariDhoka Shayari
Dhoka Shayari

लोग धोखा हमेशा गलत इंसान से
खाते है
ओर बदला अच्छे इंसानों से लेते है

Log Dhokha Hamesha Galat Insaan Se
Khaate Hai
Or Badala Achchhe Insaanon Se Lete Hai

किसी को धोखा देकर
मत सोचो की वो कितना
बेवकूफ है
ये सोचो की उसे तुम पर
कितना भरोसा था

Kisee Ko Dhokha Dekar
Mat Socho Kee Vo Kitana
Bevakooph Hai
Ye Socho Kee Use Tum Par
Kitana Bharosa Tha

ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक हैं
तू सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक हैं
वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी
हमें तो देखना है तू बेवफ़ा कहाँ तक हैं

Na Poochh Mere Sabr Kee Inteha Kahaan Tak Hain
Too Sitam Kar Le Teree Hasarat Jahaan Tak Hain
Vafa Kee Ummeed Jinhen Hogee Unhen Hogee
Hamen To Dekhana Hai Too Bevafa Kahaan Tak Hain