Dp Shayari (2022-23) NEW

Dp ShayariDp Shayari
Dp Shayari

ना कोई शिकवा ना कोई ग़म
अब जैसी दुनिया वैसे हम

Na Koee Shikava Na Koee Gam
Ab Jaisee Duniya Vaise Ham

हम भी नवाब है लोगों की अकड़ धूएँ की तरह उड़ाकर
औकात सिगरेट की तरह छोटी कर देते है

Ham Bhee Navaab Hai Logon Kee Akad Dhooen Kee Tarah Udaakar
Aukaat Sigaret Kee Tarah Chhotee Kar Dete Hai

ये जो सर पे घमंड का ताज रखते हैं
सुन लो दुनिया वालो हम इनके भी बाप लगते हैं

Ye Jo Sar Pe Ghamand Ka Taaj Rakhate Hain
Sun Lo Duniya Vaalo Ham Inake Bhee Baap Lagate Hain

Race वो लोग लगाते है जिन्हें अपनी किस्मत आजमानी हो
हम तो वो खिलाड़ी है जो अपनी किस्मत के साथ खेलते हैं

Rachai Vo Log Lagaate Hai Jinhen Apanee Kismat Aajamaanee Ho
Ham To Vo Khilaadee Hai Jo Apanee Kismat Ke Saath Khelate Hain