Friendship Shayari, 264+ फ्रेंडशिप शायरी

हर नई चीज अच्छी होती हैलेकिन!!
दोस्त पुराने ही अच्छे होते हैं!!

Har Naee Cheej Achchhee Hotee Hailekin!!
Dost Puraane Hee Achchhe Hote Hain!!

सियाह रात में जलते है जुगनू की तरह
दिलों के ज़ख्म भी दोस्तों कमाल होते है

Siyaah Raat Mein Jalate Hai Juganoo Kee Tarah
Dilon Ke Zakhm Bhee Doston Kamaal Hote Hai

तुम दोस्त बनके ऐसे आए ज़िन्दगी में,
कि हम ये जमाना ही भूल गये,
तुम्हें याद आए न आए हमारी कभी,
पर हम तो तुम्हें भुलाना ही भूल गये।

Tum Dost Banake Aise Aae Zindagee Mein,
Ki Ham Ye Jamaana Hee Bhool Gaye,
Tumhen Yaad Aae Na Aae Hamaaree Kabhee,
Par Ham To Tumhen Bhulaana Hee Bhool Gaye.

ज़िन्दगी के तूफानों का साहिल है दोस्ती,
दिल के अरमानों की मंज़िल है दोस्ती,
ज़िन्दगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत,
अगर मौत आने तक साथ दे दोस्ती।

Zindagee Ke Toophaanon Ka Saahil Hai Dostee,
Dil Ke Aramaanon Kee Manzil Hai Dostee,
Zindagee Bhee Ban Jaegee Apanee To Jannat,
Agar Maut Aane Tak Saath De Dostee.

साथ रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा,
दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा,
जी लो ये पल जब तक साथ है दोस्तों,
कल क्या पता वक़्त कहाँ ले के जायेगा।

Saath Rahate Yoon Hee Vaqt Gujar Jaayega,
Door Hone Ke Baad Kaun Kise Yaad Aayega,
Jee Lo Ye Pal Jab Tak Saath Hai Doston,
Kal Kya Pata Vaqt Kahaan Le Ke Jaayega.

तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में,
सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में,
एक दिन जब दोस्ती की आप से तो यूँ लगा,
कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में।

Tanhaee See Thee Duniya Kee Bheed Mein,
Socha Koee Apana Nahin Takadeer Mein,
Ek Din Jab Dostee Kee Aap Se To Yoon Laga,
Kuchh Khaas Tha Mere Haath Kee Lakeer Mein.

दाग दुनिया ने दिए ज़ख्म ज़माने से मिले,
हमको तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले।

Daag Duniya Ne Die Zakhm Zamaane Se Mile,
Hamako Tohaphe Ye Tumhen Dost Banaane Se Mile.

दोस्त होकर भी महीनों नहीं मिलता मुझसे,
उस से कहना कि कभी ज़ख्म लगाने आये।

Dost Hokar Bhee Maheenon Nahin Milata Mujhase,
Us Se Kahana Ki Kabhee Zakhm Lagaane Aaye.

आप जिसके वास्ते मुझसे किनारा कर गए
आपसे बच कर वही मुझको इशारा कर गए।

Aap Jisake Vaaste Mujhase Kinaara Kar Gae
Aapase Bach Kar Vahee Mujhako Ishaara Kar Gae.

तूफानों की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी,
साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया।

Toophaanon Kee Dushmanee Se Na Bachate To Khair Thee,
Saahil Se Doston Ke Bharam Ne Dubo Diya.

दोस्ती किससे न थी किससे मुझे प्यार न था,
जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था।

Dostee Kisase Na Thee Kisase Mujhe Pyaar Na Tha,
Jab Bure Vaqt Pe Dekha To Koee Yaar Na Tha.

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी,
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी,
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,
उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।

Rishton Se Badee Chaahat Aur Kya Hogee,
Dostee Se Badee Ibaadat Aur Kya Hogee,
Jise Dost Mil Sake Koee Aap Jaisa,
Use Zindagee Se Koee Aur Shikaayat Kya Hogee.