Gulzar Shayari, 724+ गुलज़ार शायरी

Gulzar shayari love in hindi

वक़्त भी हार जाते हैं कई बार ज़ज्बातों से,
कितना भी लिखो, कुछ न कुछ बाकि रह जाता है.

Waqt BhI Haar Jaate Hain Kai Baar Zajbaaton Se,
Kitna BhI Likho, Kuch Naa Kuch Baki Rah Jaata Hai.

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ,
किसी की आँख में हम को भी इंतज़ार दिखे.

”Kabhi To Chaunk Ke Dekhe Koi Hamai Taraf,
Kise ki Aankh Mein Ham Ko Bhi Intezaar Dikhe.

Gulzar Love Shayari in hindi

सहर न आई कई बार नींद से जागे
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले.

Sahar Na Aaee Kaee Baar Neend Se Jaage
Thee Raat Raat Kee Ye Zindagee Guzaar Chale.

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई.

Aaina Dekh Kar Tasallee Huee
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanata Hai Koee.

तेरे ख़त मैं इश्क़ की गवाही आज भी है,
हर्फ धुँधले हो गए पर सियाही आज भी है!!!

Tere khat main isq ki gawahi aaj bhi hain
harf dhudle ho gaye par siyahi aaj bhi hain

कहने को तो बहुत कुछ बाकी है
मगर तेरे लिए मेरी खामोशी ही काफी है!!!

kahane ko o bahut kuch baki hain
magar tere liye khamosi hi kafi hain