Hindi Thought (2022-23) NEW

Hindi Thought
Hindi Thought

खुद पर काबु रखना एक परिपक्व इंसान की निशानी है;
वक्त से पहले खुद पर काबु खो देना अपरिपक्वता की पहचान है

Khud Par Kaabu Rakhana Ek Paripakv Insaan Kee Nishaanee Hai;
Vakt Se Pahale Khud Par Kaabu Kho Dena Aparipakvata Kee Pahachaan Hai

बोलना सीखिए वरना ज़िन्दगी भर सुनना पड़ेगा

Bolana Seekhie Varana Zindagee Bhar Sunana Padega

कभी-कभी हम धागे ही इतने कमज़ोर चुन लेते हैं कि पूरी उम्र ही गाँठ बांधने में गुज़र जाती है

Kabhee-Kabhee Ham Dhaage Hee Itane Kamazor Chun Lete Hain Ki Pooree Umr Hee Gaanth Baandhane Mein Guzar Jaatee Hai

कागजों को एक साथ जोड़े रखने वाली पिन ही कागजों को चुभती है
उसी प्रकार परिवार को भी वहीं व्यक्ति चुभता है जो परिवार को जोड़ के रखता है

Kaagajon Ko Ek Saath Jode Rakhane Vaalee Pin Hee Kaagajon Ko Chubhatee Hai
Usee Prakaar Parivaar Ko Bhee Vaheen Vyakti Chubhata Hai Jo Parivaar Ko Jod Ke Rakhata Hai

उड़ने में बुराई नहीं है आप भी उड़ेंलेकिन उतना ही जहाँ से जमीन साफ़ दिखाई देती हो

Udane Mein Buraee Nahin Hai Aap Bhee Udenlekin Utana Hee Jahaan Se Jameen Saaf Dikhaee Detee Ho