Ishq Shayari (2022-23) NEW

Ishq Shayari	 Ishq Shayari
Ishq Shayari

क्या कहूँ
तुमसे मैं क्या है इश्क
जान का रोग है
बला है इश्क

Kya Kahoon
Tumase Main Kya Hai Ishk
Jaan Ka Rog Hai
Bala Hai Ishk

चाहे कितनी भी
तकलीफ दे इश्क़
पर सुकून भी
इश्क़ से ही मिलता है

Chaahe Kitanee Bhee
Takaleeph De Ishq
Par Sukoon Bhee
Ishq Se Hee Milata Hai

इश्क ने कब इजाजत ली है आशिकों से
वो होता है और होकर
ही रहता है

Ishk Ne Kab Ijaajat Lee Hai Aashikon Se
Vo Hota Hai Aur Hokar
Hee Rahata Hai

Dhoka Shayari
Dhoka Shayari

ले लो वापस दिखाए थे झूठे सपने जो तुमने मुझको
शायद इसकी जरुरत पड़े अगले शिकार में तुझको

Le Lo Vaapas Dikhae The Jhoothe Sapane Jo Tumane Mujhako
Shaayad Isakee Jarurat Pade Agale Shikaar Mein Tujhako

प्यार के समुन्दर में चाहत की लहर उठने पर जो बह जाता है
या तो वो तुम जैसा आबाद या मुझ जैसा बर्बाद हो जाता है

Pyaar Ke Samundar Mein Chaahat Kee Lahar Uthane Par Jo Bah Jaata Hai
Ya To Vo Tum Jaisa Aabaad Ya Mujh Jaisa Barbaad Ho Jaata Hai

एक बात कहूं ए मोहब्बत बुरा तो नहीं मानोगे
बड़े मोज मै थे जब तुझसे अनजान थे

Ek Baat Kahoon E Mohabbat Bura To Nahin Maanoge
Bade Moj Mai The Jab Tujhase Anajaan The