Jumma Mubarak (2022-23) NEW

Jumma Mubarak
Jumma Mubarak

इन्सान का मुक़द्दर
उतनी बार बदलता है
जितनी बार वो अपने
रब से दुआ करता है
जुम्मा मुबारक

Insaan Ka Muqaddar
Utanee Baar Badalata Hai
Jitanee Baar Vo Apane
Rab Se Dua Karata Hai
Jumma Mubaarak

सर झुकाने की खूबसूरती भी
क्या कमाल की होती हैं
धरती पर सर रखों और
दुआ आसमान में कुबूल हो जाती हैं
जुम्मा मुबारक

Sar Jhukaane Kee Khoobasooratee Bhee
Kya Kamaal Kee Hotee Hain
Dharatee Par Sar Rakhon Aur
Dua Aasamaan Mein Kubool Ho Jaatee Hain
Jumma Mubaarak

होती ना गर मक़सुद मुहम्मद की वीलादत
आदम को फ़िर ज़मीन पर उतारा नहीं जाता
जुम्मा मुबारक

Hotee Na Gar Maqasud Muhammad Kee Veelaadat
Aadam Ko Fir Zameen Par Utaara Nahin Jaata
Jumma Mubaarak

इबादत वो है जिसमे ज़रूरतों का ज़िक्र न हो
सिर्फ उसकी रेहमतों का शुक्र हो
जुम्मा मुबारक

Ibaadat Vo Hai Jisame Zarooraton Ka Zikr Na Ho
Sirph Usakee Rehamaton Ka Shukr Ho
Jumma Mubaarak