Khwahish Shayari (2022-23) NEW

Khwahish ShayariKhwahish Shayari
Khwahish Shayari

दिल में इश्क़ की छुपी ख्वाहिशें
जुबाँ पर आती नहीं
उन्हें मेरे दिल का हाल पता है
पर वो अपने दिल का हाल बताती नहीं.

Dil Mein Ishq Kee Chhupee Khvaahishen
Jubaan Par Aatee Nahin
Unhen Mere Dil Ka Haal Pata Hai
Par Vo Apane Dil Ka Haal Bataatee Nahin.

टूटा हुआ दिल कभी हमारा नही होता
जिन्दगी में ख्वाहिशों का किनारा नही होता.

Toota Hua Dil Kabhee Hamaara Nahee Hota
Jindagee Mein Khvaahishon Ka Kinaara Nahee Hota.

बेवजह की ख्वाहिशें पालकर
ख्वाहिशों के पीछे भागते है
दिन में सुकून मिलता नही है
अब रातों में भी जागते है.

Bevajah Kee Khvaahishen Paalakar
Khvaahishon Ke Peechhe Bhaagate Hai
Din Mein Sukoon Milata Nahee Hai
Ab Raaton Mein Bhee Jaagate Hai.

ख्वाहिश शायरी
कुछ यूँ बिखरी पड़ी है मेरी ख्वाहिशें जैसे सितारे
ना जाने क्यों पर अपने भी अब हमें नही लगते हमारे.

Khvaahish Shaayaree
Kuchh Yoon Bikharee Padee Hai Meree Khvaahishen Jaise Sitaare
Na Jaane Kyon Par Apane Bhee Ab Hamen Nahee Lagate Hamaare.

कुछ ख्वाहिशें है अधूरी
कुछ अधूरे से हम
वक्त बीता उम्र बीती
ना ख्वाहिशें हो सकी पूरी
ना पूरे हुए हम.

Kuchh Khvaahishen Hai Adhooree
Kuchh Adhoore Se Ham
Vakt Beeta Umr Beetee
Na Khvaahishen Ho Sakee Pooree
Na Poore Hue Ham.