Kismat Shayari (2022-23) NEW

Kismat Shayari	 Kismat Shayari
Kismat Shayari

हर दर्द की दवा हैं इस ज़माने में साहब बस किसी के पास कीमत नहीं किसी के पास किस्मत नहीं

Har Dard Kee Dava Hain Is Zamaane Mein Saahab Bas Kisee Ke Paas Keemat Nahin Kisee Ke Paas Kismat Nahin

हाथों की लकीरें भी कितनी अजीब है कम्बख्त मुट्ठी में तो है पर काबू में नहीं

Haathon Kee Lakeeren Bhee Kitanee Ajeeb Hai Kambakht Mutthee Mein To Hai Par Kaaboo Mein Nahin

किस्मत मात्र एक छलावा है कर्म के गीत गाओ
हो गई सुबह ख्वाब छोड़ो हक़ीक़त से आँख मिलाओ

Kismat Maatr Ek Chhalaava Hai Karm Ke Geet Gao
Ho Gaee Subah Khvaab Chhodo Haqeeqat Se Aankh Milao

क्या करें किस्मत में है दूरियां
वर्ना हमे तो आपके दिल में रहने को दिल करता हैं

Kya Karen Kismat Mein Hai Dooriyaan
Varna Hame To Aapake Dil Mein Rahane Ko Dil Karata Hain

खुद में ही उलझी हुई है जो मुझे क्या सुलझाएगी
भला हाथों की चंद लकीरें भी क्या क़िस्मत बताएगी

Khud Mein Hee Ulajhee Huee Hai Jo Mujhe Kya Sulajhaegee
Bhala Haathon Kee Chand Lakeeren Bhee Kya Qismat Bataegee