Lajawab Shayari (2022-23) NEW

Lajawab ShayariLajawab Shayari
Lajawab Shayari

जिम्मेदारियां भी एक इम्तेहान होती है
जो निभाता है न उसी को परेशान करती हैं

Jimmedaariyaan Bhee Ek Imtehaan Hotee Hai
Jo Nibhaata Hai Na Usee Ko Pareshaan Karatee Hain

नखरे तो सिर्फ मम्मी-पापा उठाते हैं
दुनिया वाले तो बस ऊँगली उठात है

Nakhare To Sirph Mammee-Paapa Uthaate Hain
Duniya Vaale To Bas Oongalee Uthaat Hai

दुनिया में छोड़ने जैसा कुछ है तो
दुसरों से उम्मीद करना छोड़ दो

Duniya Mein Chhodane Jaisa Kuchh Hai To
Dusaron Se Ummeed Karana Chhod Do

जीत हासिल करनी हो तो काबिलियत बढाओ
किस्मत की रोटी तो कुत्तों को भी नसीब हो जाती है

Jeet Haasil Karanee Ho To Kaabiliyat Badhao
Kismat Kee Rotee To Kutton Ko Bhee Naseeb Ho Jaatee Hai