Life Shayari, 975+ लाइफ शायरी

10 creative ways you can improve your Life Shayari. What $325 buys you in Life Shayari. 10 ideas about Life Shayari that really work. 10 reasons why you are still an amateur at Life Shayari.

One tip to dramatically improve you(r) Life Shayari. Beware: 10 Life Shayari mistakes. Life Shayari : keep it simple (and stupid). The 10 key elements in Life Shayari. Here are 7 ways to better Life Shayari.
Life Shayari,
Questions for/about Life Shayari. 59% of the market is interested in Life Shayari. The hollistic aproach to Life Shayari. 10 effective ways to get more out of Life Shayari.

Life Shayari IN HINDI

मैं तभा हूँ तेरे पियार में तुझे दूसरों का ख्याल है !!
कुछ मेरे मसले पर गौर कर मेरी ज़िन्दगी का सवाल है||

 

main tabha hoon tere piyaar mein tujhe doosaron ka khyaal hai !!
kuchh mere masale par gaur kar meree zindagee ka savaal hai||

 

काटों में रह कर भी हम ज़िन्दगी जी लेते है !!
हर ज़क्म को अपने हाटों से सी लेते है!!
जिस दोस्त को केह दिया दोस्त का हाथ
हम ऊस हाथ से ज़हर भी पि लेते है

 

kaaton mein rah kar bhee ham zindagee jee lete hai !!
har zakm ko apane haaton se see lete hai!!
jis dost ko keh diya dost ka haath
ham oos haath se zahar bhee pi lete hai

 

हर किसी को जिंदगी दो तरीके से जीना चाहिये,
पहला – जो हासिल है उसे पसन्द करना सीख लो !!
और दूसरा -पसन्द है उसे हासिल करना सीख लो।

 

har kisee ko jindagee do tareeke se jeena chaahiye,
pahala – jo haasil hai use pasand karana seekh lo !!
aur doosara -pasand hai use haasil karana seekh lo

 

जो आपकी किस्मत में लिखा है, वो भाग कर आयेगा !
और जो किस्मत में नही लिखा है, वो आकर भी भाग जायेगा।

 

jo aapakee kismat mein likha hai, vo bhaag kar aayega !
aur jo kismat mein nahee likha hai, vo aakar bhee bhaag jaayega.

 

बड़े ही अजीब हैं ये ज़िन्दगी के रास्ते,
अनजाने मोड़ पर कुछ लोग अपने बन जाते हैं,
मिलने की खुशी दें या न दें,
मगर बिछड़ने का गम ज़रूर दे जाते हैं।

 

bade hee ajeeb hain ye zindagee ke raaste,
anajaane mod par kuchh log apane ban jaate hain,
milane kee khushee den ya na den,
magar bichhadane ka gam zaroor de jaate hain.

 

जरा सा हट के चलता हूँज़माने की रिवायत से,
कि जिन पे बोझ डाला हो वो कंधेयाद रखता हूँ।

 

jara sa hat ke chalata hoonzamaane kee rivaayat se,
ki jin pe bojh daala ho vo kandheyaad rakhata hoon.

 

ज़मीं पर आओ फिर देखो हमारी अहमियत क्या है,
बुलंदी से कभी ज़र्रों का अंदाज़ा नहीं होता।

 

zameen par aao phir dekho hamaaree ahamiyat kya hai,
bulandee se kabhee zarron ka andaaza nahin hota.