Matlabi Shayari (2022-23) NEW

Matlabi ShayariMatlabi Shayari
Matlabi Shayari

इस मतलबी दुनिया में हर कोई बदल जाता है जब उनको कोई आपसे बेहतर मिल जाता है

Is Matalabee Duniya Mein Har Koee Badal Jaata Hai Jab Unako Koee Aapase Behatar Mil Jaata Hai

मतलबी दुनिया के लिए कोई रिश्ता मायने नहीं रखता

Matalabee Duniya Ke Lie Koee Rishta Maayane Nahin Rakhata

कड़वा है मगर सच है- आज की दुनिया में इंसान ख्वाहिश से नहीं जरुरत के लिए प्यार करते हैं जरुरत ख़तम तो प्यार ख़तम

Kadava Hai Magar Sach Hai- Aaj Kee Duniya Mein Insaan Khvaahish Se Nahin Jarurat Ke Lie Pyaar Karate Hain Jarurat Khatam To Pyaar Khatam

सब मतलबी है : आज की मतलबी दुनिया में कौन किसे दिल में जगह देता है यहां तक के पेड़ भी अपने सूखे पत्ते गिरा देता है

Sab Matalabee Hai : Aaj Kee Matalabee Duniya Mein Kaun Kise Dil Mein Jagah Deta Hai Yahaan Tak Ke Ped Bhee Apane Sookhe Patte Gira Deta Hai