Maut Shayari (2022-23) NEW

Maut Shayari	 Maut Shayari
Maut Shayari

बे-मौत मर जाते है बे-आवाज़ रोने वाले मौत पर शायरी

Be-Maut Mar Jaate Hai Be-Aavaaz Rone Vaale Maut Par Shaayaree

कौन कहता है कि मौत आई तो मर जाऊँगी मैं तो नदी हूँ समुंदर में उतर जाऊँगी

Kaun Kahata Hai Ki Maut Aaee To Mar Jaoongee Main To Nadee Hoon Samundar Mein Utar Jaoongee

अपनी मौत भी क्या मौत होगी एक दिन यूँ ही मर जायेंगे तुम पर मरते मरते

Apanee Maut Bhee Kya Maut Hogee Ek Din Yoon Hee Mar Jaayenge Tum Par Marate Marate

शिकायत मौत से नहीं अपनों से थी मुझे जरा सी आँख बंद क्या हुई वो कब्र खोदने लगे

Shikaayat Maut Se Nahin Apanon Se Thee Mujhe Jara See Aankh Band Kya Huee Vo Kabr Khodane Lage

वफ़ा सीखनी है तो मौत से सीखो जो एक बार अपना बना ले फिर किसी का होने नहीं देती

Vafa Seekhanee Hai To Maut Se Seekho Jo Ek Baar Apana Bana Le Phir Kisee Ka Hone Nahin Detee