Pyar Bhari Shayari (2022-23) NEW

Pyar Bhari Shayari	 Pyar Bhari Shayari
Pyar Bhari Shayari

न जाने क्या मजबूरी है उनकी
मुझे देखकर नजरें झुका लेती है
कभी देखने को तरसती थी अब क्यों
दिल की बात दिल में दबा लेती है

Na Jaane Kya Majabooree Hai Unakee
Mujhe Dekhakar Najaren Jhuka Letee Hai
Kabhee Dekhane Ko Tarasatee Thee Ab Kyon
Dil Kee Baat Dil Mein Daba Letee Hai

यादें उन्हीं की आती है
जिनसे दिल का ताल्लुक हो
हर शख्स से मोहब्बत हो
ऐसा मुमकिन तो नहीं

Yaaden Unheen Kee Aatee Hai
Jinase Dil Ka Taalluk Ho
Har Shakhs Se Mohabbat Ho
Aisa Mumakin To Nahin

कोई रूह का तलबगार मिले तो
हम भी महोब्बत कर ले;
यहाँ दिल तो बहुत मिलते है
बस कोई दिल से नहीं मिलता

Koee Rooh Ka Talabagaar Mile To
Ham Bhee Mahobbat Kar Le;
Yahaan Dil To Bahut Milate Hai
Bas Koee Dil Se Nahin Milata