Rahat Indori Shayari (2022-23) NEW

Rahat Indori ShayariRahat Indori Shayari
Rahat Indori Shayari

अब ना मैं हूँ ना बाकी हैं ज़माने मेरे
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे

Ab Na Main Hoon Na Baakee Hain Zamaane Mere
Phir Bhee Mashahoor Hain Shaharon Mein Fasaane Mere
Zindagee Hai To Nae Zakhm Bhee Lag Jaenge
Ab Bhee Baakee Hain Kaee Dost Puraane Mere

विश्वास बन के लोग ज़िन्दगी में आते है
ख्वाब बन के आँखों में समा जाते है
पहले यकीन दिलाते है की वो हमारे है
फिर न जाने क्यों बदल जाते है

Vishvaas Ban Ke Log Zindagee Mein Aate Hai
Khvaab Ban Ke Aankhon Mein Sama Jaate Hai
Pahale Yakeen Dilaate Hai Kee Vo Hamaare Hai
Phir Na Jaane Kyon Badal Jaate Hai