Shayari Of Gulzar (2022-23) NEW

Shayari Of Gulzar
Shayari Of GulzarShayari Of Gulzar

मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में
बस हम गिनती उसी की करते है जो हासिल ना हो सका

Milata To Bahut Kuchh Hai Is Zindagee Mein
Bas Ham Ginatee Usee Kee Karate Hai Jo Haasil Na Ho Saka

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता
हूँ मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है

Main Har Raat Saaree Khvaahishon Ko Khud Se Pahale Sula Deta
Hoon Magar Roz Subah Ye Mujhase Pahale Jaag Jaatee Hai

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर
आदत इस की भी आदमी सी है

Vaqt Rahata Nahin Kaheen Tik Kar
Aadat Is Kee Bhee Aadamee See Hai