Urdu Shayari (2022-23) NEW

Urdu Shayari	 Urdu Shayari
Urdu Shayari

तेरे बज़्म की आंचल में मेरे अश्क का कलमा हो
उल्फत हो तो ऐसी हो वरना ख़ाक ये दुनिया हो

Tere Bazm Kee Aanchal Mein Mere Ashk Ka Kalama Ho
Ulphat Ho To Aisee Ho Varana Khaak Ye Duniya Ho

इश्क़ तेरा बेज़ार नहीं
इससे बेहतर और कोई खुमार नहीं

Ishq Tera Bezaar Nahin
Isase Behatar Aur Koee Khumaar Nahin

हमारे अंदाज़ के हुनर को आंखों में पिरोए
शहर कहता है के तुम बड़े ख़ास दिखते हो

Hamaare Andaaz Ke Hunar Ko Aankhon Mein Piroe
Shahar Kahata Hai Ke Tum Bade Khaas Dikhate Ho