Waqt Shayari (2022-23) NEW

Waqt ShayariWaqt Shayari
Waqt Shayari

वक्त इशारा देता रहा और हम इत्तेफाक समझते रहे
बस यूँही धोके खाते रहे और इस्तेमाल होते रहे

Vakt Ishaara Deta Raha Aur Ham Ittephaak Samajhate Rahe
Bas Yoonhee Dhoke Khaate Rahe Aur Istemaal Hote Rahe

वक़्त के भी अजीब किस्से हैं
किसी का कटता नहीं और किसी के पास होता नहीं

Vaqt Ke Bhee Ajeeb Kisse Hain
Kisee Ka Katata Nahin Aur Kisee Ke Paas Hota Nahin

वक़्त मिले तो कभी रखना कदम मेरे दिल के आँगन में
हैरान रह जाओगे मेरे दिल मै अपना मुकाम देख कर

Vaqt Mile To Kabhee Rakhana Kadam Mere Dil Ke Aangan Mein
Hairaan Rah Jaoge Mere Dil Mai Apana Mukaam Dekh Kar